• ब्यूरो

सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने पर होगी कड़ी कार्रवाई - एडीजी


लखनऊ। कोरोना संक्रमण को लेकर सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने और भय फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने इसके निर्देश जारी किये हैं। उन्होंने सभी जिलों के पुलिस कप्तान और पुलिस कमिश्नरेट के पुलिस कमिश्नर को इस संबंध में पत्र भेजा है। इसमें कहा है कि वह सोशल मीडिया सेल के माध्यम से सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर 24 घंटे निगरानी रखें। अपने पत्र में एडीजी ने कहा है कि मुख्यालय के संज्ञान में आया है कि सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर कोरोना संबंधी भ्रामक अफवाहें फैलाई जा रही हैं। एक ही प्रकार के कंटेंट को कॉपी पेस्ट करके जनमानस में अनावश्यक भय फैलाया जा रहा है। मौजूदा हालात में इस तरह की भ्रामक अफवाहें पोस्ट करने वाले असामाजिक तत्वों के खिलाफ कठोर कार्रवाई कर अफवाहों का तत्काल खंडन करें। ऐसी अफवाहें या पोस्ट, जो जनमानस को विचलित एवं भयग्रस्त कर रही हों, उसकी जांच करें। संबंधित पोस्ट भ्रामक एवं गलत आशय से प्रचारित-प्रसारित पाई जाए तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई करें।


एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि हर जिले में इस तरह की टीमें बनाई जा रही हैं। कुछ टीमें सक्रिय भी हो गई हैं और कार्रवाई भी कर रही हैं। यही वजह है कि अब तक प्रदेश के अलग-अलग जिलों में छापामारी कर 42 ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया गया है जो दवा व ऑक्सीजन की कालाबजारी में लिप्त थे। उन्होंने बताया कि अब तक प्रदेश भर में हुई कार्रवाई के दौरान 239 ऑक्सीजन सिलेंडर और 688 रेमेडेसिविर इंजेक्शन बरामद किए गए हैं। इन लोगों के पास से 9 लाख 22 हजार रुपये भी बरामद हुए हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर लगातार ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। अलग-अलग जिलों ने कालाबाजारी रोकने के लिए हेल्पलाइन नंबर पर भी जारी किया है जिस पर शिकायत करने वालों के नाम गोपनीय रखे जाएंगे।