• संवाददाता

अखिलेश और ममता की रैली जनता को कुशासन से मुक्त करने का प्रतीक बनेगा: नंदा

परिवर्तन के अंधड़ में भाजपा का ऐतिहासिक सफाया हो रहा है: विकास

वाराणसी, सोशल टाइम्स। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरणमय नंदा ने 3 मार्च को अखिलेश और ममता की संयुक्त रैली के सन्दर्भ में कहा कि अभूतपूर्व बेरोजगारी, कमर तोड़ महंगाई, महिलाओं पर अत्याचार, व्यापारियों के उत्पीड़न और किसानों के साथ हो रहे अन्याय के खिलाफ अखिलेश यादव एवं ममता बनर्जी की रैली उत्तर प्रदेश की जनता को बीजेपी के कुशासन से मुक्त करने का सबसे बड़ा प्रतीक बनेगा।

नंदा ने सोमवार को मैदागिन, वाराणसी स्थित पराड़कर भवन में प्रेसवार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि हमने जैसा वादा किया है कि 300 यूनिट मुफ्त बिजली, सरकारी नौकरी के सभी पदों की भर्ती, पुरानी पेंशन योजना को लागू करना जैसे सभी वादों को सरकार बनते ही पूरा किया जाएगा। इस दौरान कार्यक्रम के सह प्रभारी और समाजवादी युवजन सभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष विकास यादव ने कहा कि प्रदेश में परिवर्तन के अंधड़ में भाजपा का ऐतिहासिक सफाया हो रहा है। पश्चिम से चले बदलाव की बयार अब पूर्वांचल में भाजपा के सभी किले जो झूठे और हवाई प्रचार पर खड़े हैं, को ध्वस्त करेगी। उन्होंने कहा कि युवाओं, महिलाओं, किसानों, दलितों, वंचितों समेत समाज के हर वर्ग के लोग जाति और धर्म से ऊपर उठकर समाजवादी पार्टी के साथ आ रहे हैं और अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाने के लिए संकल्पित हैं।

बता दें कि आगामी 3 मार्च को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश श्री अखिलेश यादव और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री माननीय ममता बनर्जी की संयुक्त रैली प्रस्तावित है। उक्त पत्रकार वार्ता में समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष सुजीत यादव ‘लक्कड़’, हरिश्चन्द्र महाविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष एवं सयुस के पूर्व प्रदेश सचिव अमित यादव, लोहिया वाहिनी के पूर्व प्रदेश सचिव तनुज पाण्डेय, पूर्व अध्यक्ष छात्रसंघ श्रीप्रकाश यादव, अंकित अग्रहरी आदि लोग उपस्थित रहे।