top of page
  • ब्यूरो

अखिलेश बोलें: मर्यादा का पालन नहीं कर रही भाजपा सरकार

विभिन्न दलों के नेताओं ने थामा समाजवादी पार्टी का हाथ

लखनऊ, सोशल टाइम्स। मंगलवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा पर करारा प्रहार करते हुए कहा कि सरकार मनमानी कर रही है, कानून नहीं मान रही है और मर्यादा का पालन भी नहीं कर रही है। श्री यादव ने कहा कि भाजपा सरकार का सफाया होना तय है, इसीलिए मुख्यमंत्री जी की भाशा अमर्यादित हो गई है। राज्य में खुशहाली के लिए जनता बदलाव चाहती है। समाजवादी सरकार जैसा विकास और काम चाहती है। कल विभिन्न दलों के नेताओं के समाजवादी पार्टी में शामिल होने पर उन्होंने बधाई दी। इस मौके पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में सपा अध्यक्ष ने कहा कि 2022 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनने जा रही है। यह जनता की इच्छा है। सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार अभी तक समाजवादी पार्टी के कार्यों का नाम बदलकर अपना बता रही थी अब वह दूसरे प्रदेशों और देशों के कार्यों को भी चोरी कर उसकी तस्वीरें छाप कर अपना बता रही है। श्री यादव ने कहा कि भाजपा सरकार में मुख्यमंत्री ने अभी तक कोई ऐसा काम नहीं किया है, जिसका शिलान्यास और उद्घाटन दोनों उन्होंने किया हो।

यादव ने कहा कि भाजपा ने किसानों को धोखा दिया है। भाजपा में कोई किसान नहीं है। वह बड़े व्यापारियों और उद्योगपतियों की पार्टी है। सरकार ने छोटे व्यापारियों को बर्बाद कर दिया। जीएसटी और नोटबंदी करके देश की अर्थव्यवस्था को डुबो दिया। कोविड दौर में लोग इलाज और आक्सीजन के अभाव में तड़पकर मर गए। इनके आंकड़े छुपाने का काम किया गया है। प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त है। नेशनल क्राइम ब्यूरों के आंकड़ों में उत्तर प्रदेश अपराध में सबसे ऊपर है। मानवाधिकार आयोग ने फर्जी एनकाउंटर और हिरासत में मौतों को लेकर भाजपा सरकार को सबसे ज्यादा नोटिस दी है। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा को अपना चुनाव चिन्ह बुलडोजर रख लेना चाहिए। लेकिन उन्हें याद रखना चाहिए कि बुलडोजर में स्टीयरिंग होती है। घूम जाएगी तो कहां कहां चलेगी यह समय बताएगा। भाजपा सरकार अयोध्या में जिन गरीबों के घर पर बुलडोजर चलवा रही है सपा सरकार बनने पर उनका सम्मान होगा, उन्हें घर बना कर दिया जाएगा। दोषी अधिकारी बख्शे नहीं जाएंगे। चार-पांच महीने का समय बचा है जो करना चाहे कर ले। 90 वर्ष से अयोध्या में रह रहे श्री मनीराम और संतोष यादव ने अपनी दर्दभरी दास्तान सुनाई

bottom of page