• ब्यूरो

अखिलेश यादव ने किया भगवती सिंह की प्रतिमा का अनावरण

बिजली के करेंट का झटका भाजपा को लगना जरूरी : सपा प्रमुख

लखनऊ, सोशल टाइम्स। शनिवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीकेटी इंटर कालेज, बख्शी का तालाब में समाजवादी नेता एवं पूर्व मंत्री भगवती सिंह की प्रतिमा के अनावरण और माल्यार्पण के पश्चात् आयोजित विशाल जनसभा को सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि बाबू भगवती सिंह समाजवादी नेता थे। वे आजीवन समाजवादी विचारधारा से जुड़े रहे। कालेज को विश्वविद्यालय बनाने की दिशा में प्रयास ही उनको श्रद्धांजलि होगी। यादव ने समाजवादी संत स्व0 भगवती सिंह के जीवन पर एक स्मारिका का भी विमोचन किया। जनसभा को सम्बोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा है कि प्रदेश की जनता मंहगाई, बेरोजगारी से त्रस्त है। केन्द्र और राज्य में डबल इंजन सरकार के बावजूद उत्तर प्रदेश में बिजली का संकट है। भाजपा ने विद्युत उत्पादन बढ़ाने का कोई काम नहीं किया। समाजवादी सरकार बनने पर किसान और गरीबों को बिजली संकट नहीं रहेगा। भाजपाई समाजवादी पार्टी के घोषणा-पत्र में बिजली बिल कम किए जाने की बात की आशंका में डरे हुए हैं। बिजली के करेंट का झटका भाजपा को लगना जरूरी है।

अखिलेश यादव ने कहा कि देश को बड़े बलिदानों के बाद आजादी मिली है। प्लासी के युद्ध के बाद ईस्ट इण्डिया कम्पनी को एक कानून ने सरकार बना दिया। भाजपा ऐसे कानून ला रही है जिससे देश की मालिक कम्पनी होगी और वही सरकार चलाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार पहले फेंकू सरकार थी अब बेंचू सरकार हो गयी है। यह सरकार रेल बेच रही है, पटरी और स्टेशन बेच रही है। सड़कें, एयरपोर्ट और रेल बेंच रही है। वह सब कुछ बेचने पर उतारू है। लाकडाउन के समय जनता को अनाथ छोड़ दिया गया। कोरोना से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो गयी। मरीजों को अस्पतालों में बेड, दवा और इलाज नहीं मिला। आक्सीजन के लिए भटकना पड़ा। विषेशज्ञों की चेतावनी के बाद भी सरकार ने कोई तैयारी नहीं की थी। यादव ने कहा कि कोरोना काल में इतनी बड़ी संख्या में हुई मौतों के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार है। अखिलेश यादव ने कहा नोटबंदी से भ्रष्टाचार मिटा नहीं, अर्थव्यवस्था चौपट हो गई। किसान की वजह से अर्थव्यवस्था सम्भाली है। 2 साल में शिक्षा व्यवस्था चौपट हुई है। आनलाइन पढ़ाई पटरी पर नहीं है। यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में चुनावों की शुरूआत हो चुकी है। समाजवादियों की जिम्मेदारी है कि सब मिलकर सोती हुई भाजपा सरकार को हटाएं। बिहार-बंगाल से ज्यादा उत्तर प्रदेश के चुनाव खतरनाक होंगे। समाजवादी विचारधारा को आगे बढ़ाना है। समाजवादी सरकार बनेगी तभी गरीबों, किसानों, नौजवानों का कल्याण होगा। मुख्यमंत्री जी ने रंग और नाम बदलने के अलावा कोई काम नहीं किया है।

इस अवसर पर उदय प्रताप सिंह, राजेन्द्र चौधरी, अरविन्द सिंह गोप, सुशीला सरोज, डाॅ0 फिदा हुसैन अंसारी, राजेन्द्र यादव, डाॅ0 मधु गुप्ता, आर.के. चौधरी, गोमती यादव, विजय सिंह, राम सागर, इंदल रावत, झींन बाबू, श्याम किशोर यादव, जयसिंह जयंत, अशोक यादव, जितेंद्र सिंह यादव, सुभाष यादव, संजीव यादव, अनुराग भदौरिया, बख्शी का तालाब इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य के.के. शुक्ला एवं पूर्व प्रधानाचार्य आर.के. सिंह तोमर सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।