• ब्यूरो

812 दिन बाद जेल से रिहा हुए आजम खान


लखनऊ। आखिर तकरीबन 27 महीने बाद सपा विधायक आजम खां की रिहाई हो ही गई। शुक्रवार सुबह 8:06 बजे वह सीतापुर जेल से रिहा हो गए हैं। गुरुवार देर रात करीब 12 बजे सपा विधायक का रिहाई आदेश जेल प्रशासन को प्राप्त मिला था। उधर, आजम की रिहाई की खबरों के बीच उनके समर्थकों की भीड़ सुबह पांच बजे से ही जेल गेट के पास एकत्र होने लगी थी। आजम खां के बड़े बेटे अदीब आजम अपने पिता को लेने सबसे पहले जेल पहुंचे। थोड़ी ही देर में विधायक आशु मालिक और अब्दुल्ला आजम भी सीतापुर जेल पहुंच गए। अब्दुल्ला आजम 6:55 बजे जेल के अंदर गए। आजम की रिहाई की खबर पाकर रामपुर, लखनऊ व अन्य स्थानों के समर्थक सीतापुर में जुट रहे हैं। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने सपा विधायक आजम खां की अंतरिम जमानत मंजूर की थी। तभी से उनकी रिहाई के आदेश का इंतजार हो रहा था। गुरुवार की देर शाम तक रिहाई परवाना न मिलने की वजह से वह गुरुवार को खुली हवा में नहीं सांस ले पाए। गुरुवार को कोर्ट से रिहाई के फैसले के बाद सुबह तकरीबन सात बजे प्रसपा (प्रगतिशील समाजवादी पार्टी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव भी सीतापुर जेल पहुंचे। आजम की रिहाई के दौरान जेल गेट पर कई थानों की पुलिस लगाई गई। सीतापुर के सभी इंट्री प्वाइंट पर भारी पुलिस बल लगाया गया। जो आने जाने वाले वाहनों की जांच कर रहा था। जेल रोड पर तो कई थानों की पुलिस मुस्तैद दिखाई दी। रिहाई के बाद सपा विधायक आजम खां महोली के पूर्व विधायक अनूप गुप्ता के घर पहुंचे हैं। अनूप का घर जेल से महज सौ मीटर की दूरी पर है। यहां करीब आधा घंटे रुकने के बाद आजम खान रामपुर के लिए रवाना हो गए। आजम 27 फरवरी 2020 में सीतापुर जेल में शिफ्ट किया गया था। जमानत मिलने के बाद आजम खान 812 दिन बाद रिहा हुए हैं।