• ब्यूरो

भाजपा सरकार ने सुरक्षा, विकास, गरीब कल्याण की योजनाओं को धरातल पर मूर्त रूप प्रदान किया: योगी

योगी ने किया भाजपा के क्षेत्रीय मीडिया सेंटर का शुभारम्भ

लखनऊ, सोशल टाइम्स। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बीते पांच सालों में भाजपा सरकार ने सुरक्षा, महिला कल्याण, अन्नदाता किसानों के उन्नयन, नौजवानों को रोजगार, गांवों व शहरों के समग्र विकास, गरीबों के कल्याण की योजनाओं को धरातल पर मूर्त रूप प्रदान किया है। इसका परिणाम भी देखने को मिल रहा है।

योगी ने शुक्रवार को भाजपा के क्षेत्रीय मीडिया सेंटर का शुभारम्भ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में पार्टी ने तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष और वर्तमान में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के सानिध्य में लोक कल्याण के जो 212 संकल्प लिए थे, पांच वर्ष के दौरान एक-एक कर उन सभी को मंत्र मानकर पूरा किया। योगी ने कहा कि पिछली सरकारों में प्रदेश को सत्ता के संरक्षण में माफियाओं, गुंडों ने जकड़ लिया था। केंद्र व प्रदेश की डबल इंजन भाजपा सरकार ने प्रदेश को माफिया व गुंडाराज से मुक्ति दिलाई है। सुरक्षा का माहौल बना तो बेटिया स्कूल जा रही हैं। बहन, माताएं सम्मान से जी रही हैं। सुरक्षा के वातावरण से प्रदेश में निवेश और निवेश से रोजगार के अवसर तेजी से आगे बढ़े हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में मार्च 2017 के पहले भूख से गरीबों की मौत आम बात मानी जाती थी। कुशीनगर और महराजगंज के मुसहर भूख से मरने के लिए अभिशप्त थे। जनवरी 2017 में भी कुशीनगर में मुसहरों की भूख से मौत हुई थी। अपना संसदीय क्षेत्र न होने के बावजूद मैंने वहां जाकर भूख से तड़प रहे लोगों की पीड़ा को महसूस किया था, उनके लिए आवाज उठाई थी। आज भाजपा सरकार ने उनके कल्याण की ऐसी व्यवस्था कर दी है कि न सिर्फ मुसहर बल्कि पूरे यूपी में किसी की मौत भूख के कारण नहीं होती है। सीएम ने कहा विगत एक हजार सालों में जितनी भी महामारियां आईं, उनमें बीमारी से कई गुना अधिक मौतें भूख के चलते हुईं।

योगी ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि 2004 से 2014 के बीच देश में लाखों किसानों ने आत्महत्या किया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में किसान हित मे किए गए कार्यों से इस पर रोक लगी है। उत्तर प्रदेश में 2014 के बाद भी प्रदेश की सरकार किसान हित वाली केंद्र की योजनाओं को लागू नहीं करती थी। इसके चलते किसान खेतीबाड़ी से भाग रहा था। बिचौलिए एमएसपी का लाभ लेते थे जबकि किसान वंचित रह जाता था। कई साल तक गन्ना किसानों को उनके मूल्य का भुगतान नहीं किया गया। अन्नदाता सिंचाई के लिए परेशान रहता था। सिंचाई की परियोजनाएं दशकों से लंबित थी। 2017 के पूर्व पूरे यूपी में बिजली न मिलने से भी सिंचाई प्रभावित होती थी। आज सबको पर्याप्त बिजली, निर्बाध बिजली मिल रही है। प्रदेश सरकार ने 1 लाख 21 हजार अतिरिक्त मजरों का विद्युतीकरण कराया है। दशकों से लंबित सिंचाई परियोजनाओं को पूरा किया। उन्होंने कहा कि किसानों के हित मे उनकी सरकार ने पहला निर्णय ही 86 लाख किसानों की 36 हजार करोड़ रुपये की कर्जमाफी का किया। प्रदेश में 2.54 करोड़ किसानों को 42 हजार करोड़ रुपये की पीएम किसान सम्मान निधि की धनराशि मिली है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार गरीब कल्याण के लिए समर्पित है। उन्होंने कहा कि पूर्व की सपा सरकार ने बुजुर्गों, निराश्रित महिलाओं व दिव्यांगों का पेंशन बंद कर अपने कैडर के कार्यकर्ताओं को दे दिया था। हमारी सरकार आई तो पूछा कि समाजवादी पेंशन पाने वालों का समाज मे योगदान क्या है। यह स्पष्ट कर दिया कि थानों की दलाली करने वालों, तहसीलों को गिरवी रखने वालों को गरीबों का निवाला नहीं खाने दिया जाएगा।

’सैफई में लुटाया जाता था प्रदेश का खजाना’ उन्होंने प्रदेश में रोजगार की चर्चा करते हुए कहा कि उनकी सरकार ने बीते पांच साल में पांच लाख नौजवानों को सरकारी नौकरियां दी हैं जबकि सपा, बसपा की सरकारों में दस साल में मिलकर सिर्फ 1.90 लाख सरकारी नौकरी दी थी। वह भी पैसे के लेनदेन से। सुरक्षा का माहौल बनने से निजी क्षेत्र में व्यापक निवेश से बड़ी संख्या में रोजगार सृजित हुए हैं।