• एजेंसी

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे से क्षेत्र की कनेक्टिविटी आसान होगी: योगी आदित्यनाथ




लखनऊ (न्यूज़ ऑफ इंडिया) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को जनपद जालौन की तहसील उरई स्थित ग्राम कैथेरी में 14,800 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 296 किलोमीटर लम्बाई के बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण किया।


इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे जनपद-चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया होते हुए इटावा में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे से जुड़ रहा है। इससे बुन्देलखण्ड क्षेत्र की कनेक्टिविटी आसान होगी। साथ ही, चित्रकूट से दिल्ली की दूरी छः-साढ़े छः घण्टे में तय की जा सकेगी। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे, बुन्देलखण्ड क्षेत्र के नौजवानों की पलायन की समस्या के समाधान के साथ ही, प्रधानमंत्री द्वारा डिफेंस इण्डस्ट्रियल कॉरिडोर के तहत उपलब्ध कराये गये झांसी व चित्रकूट नोड को आगे बढ़ाने में भी सहायक होगा।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा माह फरवरी, 2020 में जनपद चित्रकूट में बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे की अधारशिला रखी गयी थी। इसके बाद से ही पूरा विश्व कोरोना महामारी की चुनौती का सामना कर रहा है। इसके बावजूद विगत 28 माह में 04-लेन (06-लेन विस्तारणीय) बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण किया जाना महत्वपूर्ण है। आज पूरा बुन्देलखण्ड क्षेत्र गर्व और गरिमा महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में वर्ष 2014 के बाद से ही देश और प्रदेश को विकास एवं ईज़ ऑफ लिविंग की सुविधाओं का लाभ मिल रहा है। प्रधानमंत्री ने देश और प्रदेशवासियों के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए देश को जो दिशा दी है, उत्तर प्रदेश उसे अंगीकार कर आगे बढ़ रहा है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री का जालौन आगमन महत्वपूर्ण है। प्रधानमंत्री द्वारा ग्रामोदय से राष्ट्रोदय की परिकल्पना को साकार करने वाली ग्रामीण आवासीय अभिलेख की परियोजना, स्वामित्व योजना (घरौनी) शुरू की गयी है। जनपद जालौन प्रदेश का पहला ऐसा जनपद है, जहां शत-प्रतिशत ग्रामीण परिवारों को ग्रामीण आवासीय अभिलेख (घरौनी) उपलब्ध करा दी गयी है। घरौनी के माध्यम से ग्रामीण परिवारों को अपने पुश्तैनी घर की जमीन का मालिकाना हक का कागज प्राप्त हुआ है। इससे गरीब से गरीब परिवार को अपने घर की जमीन पर हक मिलना सुनिश्चित हुआ है। साथ ही, इस अभिलेख के जरिये आगे बढ़ने की आर्थिक चुनौतियों के समाधान का मार्ग भी प्राप्त हुआ है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि आज पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। इस अवसर पर बुन्देलखण्ड सूखे की समस्या का समाधान करने की ओर आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री द्वारा अर्जुन सहायक सिंचाई परियोजना का उद्घाटन किया गया। ऐसी ही लगभग डेढ़ दर्जन से अधिक परियोजनाओं को पूरा कर प्रदेश में 21 लाख हेक्टेयर से अधिक अतिरिक्त सिंचन क्षमता सृजित की गयी है। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर हम बुन्देलखण्ड क्षेत्र में हर घर नल योजना को पूर्ण करने की ओर अग्रसर है। हर घर में शुद्ध पेयजल के प्रधानमंत्री के अभियान के तहत बहुत शीघ्र ही बुन्देलखण्ड क्षेत्र के हर घर में पीने का शुद्ध पानी सुलभ होगा।


इस अवसर पर केन्द्रीय एम0एस0एम0ई0 राज्य मंत्री भानु प्रताप सिंह वर्मा, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, ब्रजेश पाठक, प्रदेश के जल शक्ति मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह, औद्योगिक विकास राज्य मंत्री जसवन्त सिंह सैनी, जल शक्ति राज्य मंत्री रामकेश निषाद, श्रम एवं सेवायोजन राज्य मंत्री मनोहर लाल मन्नू कोरी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी तथा जनसमुदाय उपस्थित था।