• एजेंसी

लखनऊ: मुख्यमंत्री ने वृहद ऋण मेले का किया शुभारम्भ




लखनऊ (न्यूज़ ऑफ इंडिया) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यहां लोक भवन में आयोजित समारोह में वृहद ऋण मेले का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने 09 हस्तशिल्पियों, कारीगरों एवं उद्यमियों को दिये गये ऋण का प्रतीकात्मक चेक सौंपा। सभी 75 जनपदों में आयोजित वृहद ऋण मेले के इस कार्यक्रम के अन्तर्गत ‘प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम’, ‘प्रधानमंत्री मुद्रा योजना’, ‘मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना’, ‘एक जनपद एक उत्पाद वित्त पोषण योजना’ आदि के 01 लाख 90 हजार लाभार्थी हस्तशिल्पियों, कारीगरों एवं उद्यमियों को 16 हजार करोड़ रुपये के ऋण का वितरण किया गया। मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर वर्ष 2022-23 की 2.95 लाख करोड़ रुपये की वार्षिक ऋण योजना का विमोचन किया।


मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के दौरान ‘एक जनपद एक उत्पाद योजना’ के अन्तर्गत 05 जनपदों-आगरा, अम्बेडकरनगर, सीतापुर, आजमगढ़, सिद्धार्थनगर में स्थापित कॉमन फैसिलिटी सेण्टर का उद्घाटन किया। उन्होंने कॉमन फैसिलिटी सेण्टर पर उपस्थित लाभार्थियों से संवाद भी किया। लाभार्थियों ने कॉमन फैसिलिटी सेण्टर की स्थापना के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें बताया कि इस सेण्टर की स्थापना से ‘एक जनपद एक उत्पाद योजना’ के हस्तशिल्पियों, कारीगरों, उद्यमियों को आधुनिक तकनीकी से जुड़ने का अवसर मिलेगा। इससे उत्पादों की गुणवत्ता बेहतर होगी और आय में वृद्धि होगी।

मुख्यमंत्री ने कॉमन फैसिलिटी सेण्टर की स्थापना के लिए हस्तशिल्पियों, कारीगरों, उद्यमियों को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश सरकार सभी जनपदों में कॉमन फैसिलिटी सेण्टर की स्थापना की कार्यवाही को आगे बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि ‘एक जनपद एक उत्पाद योजना’ में जनपद आजमगढ़ के विशिष्ट उत्पाद के रूप में ब्लैक पॉटरी चिन्हित है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जी-7 के राष्ट्राध्यक्षों को आजमगढ़ जनपद की ब्लैक पॉटरी उपहार स्वरूप प्रदान किया है। इससे इस जनपद की अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान में सकारात्मक बदलाव आया है। जनपद सिद्धार्थनगर के ‘एक जनपद एक उत्पाद’ काला नमक चावल के उत्पादकों को इसकी खेती को गो-आधारित प्राकृतिक खेती से जोड़ने पर विचार करना चाहिए। काला नमक चावल की एक किलोग्राम, दो किलोग्राम, पांच किलोग्राम जैसी छोटी पैकेजिंग इस उत्पाद की मांग को देश-विदेश में बढ़ाने में सहायक होगी।


मुख्यमंत्री के समक्ष कार्यक्रम के दौरान अपर मुख्य सचिव एम0एस0एम0ई0 नवनीत सहगल एवं अमेज़ॉन के वी0पी0 पॉलिसी चेतन कृष्ण स्वामी के मध्य एक एम0ओ0यू0 का आदान-प्रदान किया गया। ज्ञातव्य है कि कानपुर में अमेज़ॉन के डिजिटल केन्द्र का शुभारम्भ किया गया है। इस केन्द्र के माध्यम से एम0एस0एम0ई0 हस्तशिल्पियों, कारीगरों, उद्यमियों को देश-विदेश में अपने उत्पादों की मार्केटिंग में सहूलियत होगी। यह भी उल्लेखनीय है कि प्रदेश के 35 जनपदों में सिडबी के सहयोग से स्वावलम्बन केन्द्रों का शुभारम्भ किया गया है। यह केन्द्र नये उद्यमियों की हैण्ड होल्डिंग का कार्य करेंगे। भविष्य में प्रदेश के सभी जनपदों में यह केन्द्र स्थापित किये जाएंगे।


मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि वृहद ऋण मेले का कार्यक्रम एम0एस0एम0ई0 विभाग की 100 दिन की कार्ययोजना का हिस्सा है। यह प्रयास किया जाना चाहिए कि 06 माह की कार्ययोजना के तहत पुनः इसी तरह का कार्यक्रम आयोजित किया जाए। एम0एस0एम0ई0 उद्यमियों को ऋण की उपलब्धता से आर्थिक गतिविधियां तेजी से आगे बढ़ेंगी। इससे युवाओं को रोजगार मिलेगा। साथ ही, बैंकों का सी0डी0 रेशियो भी बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री डिजिटल बैंकिंग को प्रोत्साहित करने के लिए प्रयासरत हैं। उन्होंने आज के कार्यक्रम में ऋण प्राप्त करने वाले हस्तशिल्पियों, कारीगरों और उद्यमियों से डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने का आग्रह करते हुए कहा कि इससे देश व प्रदेश में डिजिटल बैंकिंग को बढ़ाने में सहायता मिलेगी।


मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2017 से पहले प्रदेश में एम0एस0एम0ई0 का क्षेत्र मृतप्राय था। इस क्षेत्र के हस्तशिल्पियों, कारीगरों, उद्यमियों में हताशा थी। प्रदेश में बेरोजगारी दर लगभग 18 प्रतिशत थी। उत्तर प्रदेश देश का सर्वाधिक आबादी वाला राज्य होने के साथ ही सर्वाधिक युवा जनसंख्या वाला राज्य भी है। इसलिए युवाओं की अपनी आकांक्षाएं थीं, किन्तु प्रदेश में कृषि के अलावा रोजगार का कोई साधन नहीं था। केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनाओं के बावजूद तत्कालीन राज्य सरकार ने कोई रुचि नहीं ली। कमी पैसे या केन्द्र सरकार के सहयोग की नहीं, बल्कि राजनीतिक इच्छाशक्ति की थी।