• एजेंसी

विधान सभा में अरविन्द गिरि के निधन पर शोक प्रस्ताव


लखनऊ (न्यूज़ ऑफ इंडिया ) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अरविन्द गिरि के निधन पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की।


मुख्यमंत्री विधान सभा में वर्तमान विधान सभा के सदस्य अरविन्द गिरि के निधन पर प्रस्तुत शोक प्रस्ताव पर विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 06 सितम्बर, 2022 को लगभग 64 वर्ष की अवस्था में अरविन्द गिरि का निधन हो गया। उनका असमय निधन सभी के लिए दुःख का क्षण है। गिरि विधानसभा के वरिष्ठ सदस्य थे। उनका राजनीति एवं संसदीय क्षेत्र में दीर्घ अनुभव था। वर्तमान विधान सभा में वे 5वीं बार सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए थे। गिरि सर्वप्रथम वर्ष 1996 में तथा पुनः वर्ष 2002 व 2007 में जनपद लखीमपुर खीरी की हैदराबाद विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए थे। तत्पश्चात वर्ष 2017 एवं वर्ष 2022 में वे गोला गोकर्ण नाथ विधान सभा क्षेत्र से विधान सभा सदस्य निर्वाचित हुए।



मुख्यमंत्री ने कहा कि गिरि वर्तमान विधान सभा के अधिष्ठाता मण्डल एवं विधान सभा की महत्वपूर्ण समितियों के सदस्य थे। गिरि अपने क्षेत्र के लोकप्रिय नेता थे। समाज के गरीब, वंचित तथा पिछड़े वर्गों के उत्थान और ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा के प्रसार के लिए उन्होंने अनेक कार्य किये। सामाजिक कार्यों व शैक्षणिक संस्थाओं के निर्माण में उनकी विशेष रूचि थी। वे विभिन्न शिक्षण संस्थाओं के संचालक भी रहे।


मुख्यमंत्री ने कहा कि गिरि राजनैतिक एवं सामाजिक आन्दोलनों के अन्तर्गत जिला कारागार लखीमपुर खीरी, शाहजहांपुर, लखनऊ में बन्दी रहे। वे गोला गोकर्णनाथ नगर पालिका के अध्यक्ष भी रहे। गिरि एक कुशल राजनीतिज्ञ, सामाजिक कार्यकर्ता, लोकप्रिय जनप्रतिनिधि के रूप में अपने क्षेत्र के विकास और जनकल्याण के लिए सदैव समर्पित रहे।