• ब्यूरो

किसानों के बिजली बिल को आधा करने का फैसला महत्वपूर्ण: स्वतंत्र देव

पहले किसानों को सिंचाई के लिए बिजली नहीं मिलती थी...

लखनऊ, सोशल टाइम्स। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने गुरुवार को प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के बिजली बिल आधा करने की घोषणा का स्वागत करते हुए इसे महत्वपूर्ण फैसला बताया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के किसानों की आय दोगुना करने के संकल्प को सिद्ध करने वाला साबित होगा। उन्होंने इस किसान हितैषी निर्णय पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद ज्ञापित किया।

स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की योगी सरकार अपने गठन के दिन से ही लगातार किसानों के हित में निर्णय ले रही है। चाहे वह विभिन्न फसलों की एमएसपी में बढ़ोतरी हो या किसान सम्मान निधि का लाभ देने की बात हो। उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने गन्ना किसानों और लघु एवं सीमांत किसानों के हित में निरंतर निर्णय लिए हैं। उत्तर प्रदेश एमएसपी पर गेहूं और धान की सर्वाधिक खरीद करने वाला राज्य तो है ही साथ ही गन्ना किसानों के 1 लाख 45 हजार करोड़ से ज्यादा का भुगतान योगी सरकार कर चुकी है। सरकार कृषि कार्य को और सुगम बनाने के लिए ना केवल एफपीओ और सहकारी समितियों का गठन कर उसे सब्सिडी पर कृषि उपकरण देने का कार्य कर रही है बल्कि उनके उत्पादों के विपणन के लिए भी बाजार उपलब्ध करा रही है।

उन्होंने कहा कि जहां पहले किसानों को सिंचाई के लिए बिजली नहीं मिलती थी। आज 2500 से ज्यादा कृषि फीडर अलग किये जा चुके हैं जहां 10 घंटे निर्बाध दिन में सिंचाई के लिए बिजली मिल रही है। गांवों में पिछली सरकार के मुकाबले 53ः ज्यादा बिजली दी जा रही है। इतना ही नहीं ब्रज और पश्चिम उत्तर प्रदेश के 17 से ज्यादा जिलों में डार्क जोन समाप्त कर किसान विरोधी निर्णय बदला। जिसके बाद से किसानों को ट्यूबवेल कनेक्शन दिए जाने की प्रक्रिया शुरू हुई। पिछली सरकार जहां केवल 19 हजार ट्यूबवेल कनेक्शन ही दे पाती थी भाजपा सरकार ने 50 हजार से ज्यादा कनेक्शन प्रतिवर्ष दिए। बहुत से कृषि संगठनों ने कृषि कार्य हेतु उपयोग किए जा रहे बिजली कनेक्शनों के बिलों में छूट की मांग की थी जिस पर प्रदेश सरकार ने निर्णय लेते हुए कृषि बिल हाफ करने का ऐतिहासिक निर्णय लिया है।