• ब्यूरो

सरकार की किसान विरोधी नीतियों से खेत-खलिहान में छायी है उदासी: अखिलेश


लखनऊ, सोशल टाइम्स। मंगलवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री जी और उनके आला अफसर पूरे प्रदेश में धान खरीद के दावे करते थकतेे नहीं जबकि खुद मुख्यमंत्री जी के गृहजनपद गोरखपुर में घोषित क्रयनीति के विपरीत धान क्रयकेन्द्र खोलने में अनियमितता व भ्रष्टाचार का बोलबाला है। अन्नदाता बेहाल है। धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1940 के विपरीत किसानों को आधा मूल्य भी नहीं मिल पा रहा है। पूरे प्रदेश में अभी तक क्रय केन्द्र नहीं खुले है। प्रदेश सरकार की किसान विरोधी नीतियों से खेत-खलिहान में उदासी छायी है।

उन्होंने कहा कि नियमतः हर क्रयकेन्द्र में नियमित कर्मचारी होना चाहिए तथा संस्था के पास भण्डारण की जगह भी पर्याप्त होनी चाहिए लेकिन इसके विपरीत जनपद की दो संस्थाएं जिला सहकारी फेडरेशन (डीसीएफ) एवं केन्द्रीय उपभोक्ता भण्डार, गोरखपुर में कोई कर्मचारी नहीं है। किसानों से धान की खरीद न कर सीधे राइस मिलों को फायदा पहुंचाया जा रहा है। फर्जी तरीकों से बिचौलियों द्वारा धान खरीद की जा रही है। खरीद में अनियमितता और भ्रष्टाचार के चलते किसान परेशान है।