• Editor

साक्षात्कार: लालजी निर्मल ने भाजपा सरकार बनने का किया दावा


उत्तर प्रदेश सरकार के अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष लालजी निर्मल एक वरिष्ठ राजनेता हैं। सामाजिक न्याय की दिशा में उन्होंने कई बड़े काम किये हैं। लालजी निर्मल ने अपने राजनैतिक सफर की शुरुआत सचिवालय संघ के अध्यक्ष रूप में की। जिसके बाद वो सभी सरकारों में महत्वपूर्ण भूमिका में रहें।


इस चुनावी मौसम में कई मुद्दों पर लालजी निर्मल से सोशल टाइम्स के सम्पादक शुभांकर भानु ने बात की, पेश है बातचीत का पूरा अंश.....


सवाल: आपके राजनीति में आने की प्रेरणा कहाँ से मिली?


जवाब: 70 के दशक का दौर था, मैं मिर्ज़ापुर के कस्बे जमनाबाज़ार में रहता था। मेरे पिता जी ने गाँधी पुस्तकालय के नाम से एक लाइब्रेरी बनायीं थी जहाँ अखबार आता था, तो बचपन से अखबार पढ़ने की आदत पड़ी। मेरे क्षेत्र में मुसहरों की स्थिति काफी भयावह थी। दबंग लोग उनकी लड़कियों को उठा ले जाते थे, ज़मीन कब्ज़ा कर लेते थे। दावत के पत्तल की जूठन को कुत्ते और मुसहर साथ खाते थे। एक मुसहर ने स्कूल में एडमिशन लिया तो अध्यापक पंडित जी ने उसे बहुत मारा। जिसके बाद कई साल मुसहरों ने वहां शिक्षा नहीं ग्रहण की। गाय, भैंस मर जाती थी तो चमार समाज के लोग उसकी हड्डी बेचकर उसका मांस खाते थे। ऐसी स्थिति देखकर मैंने समाज की असलियत जानी। जिसके बाद मैंने मन बनाना कि व्यवस्था का हिस्सा बनकर ही समाज के दबे कुचले लोगों की मदद की जा सकती है।


सवाल:अब तक के सफर में सामाजिक न्याय के लिए आपने क्या क्या कदम उठाये हैं?


जवाब: जब मैं सचिवालय संघ का अध्यक्ष बना तो नौकरी से ज़्यादा मैंने सामाजिक न्याय पर काम किया। मंडल आयोग की संस्तुतियां को लागू करने के लिए मैंने आंदोलन किया। मैंने ही प्रस्ताव रखा था। मुलायम सिंह यादव के दौर में उसे लागू किया गया, मुलायम सिंह हमारे हीरो थे। इसके बाद राजनाथ सिंह के दौर में मैंने समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी जैसे पदनामों को लागू कराया। कल्याण सिंह के दौर में मैंने हरिजन शब्द को निषेध करने का प्रस्ताव रखा जिसके बाद अनुसूचित जाति शब्द प्रयोग में आया। राम, कृष्णा और बुद्ध भारत की संपत्ति है। जब तालिबान ने बामियान में बुद्ध की मूर्ति को तोड़ दिया था, तब मैंने उत्तर प्रदेश में बुद्ध की मूर्ति बनवाने का प्रस्ताव रखा था, जिसे राजनाथ सिंह ने माना और कुशीनगर में बुद्ध की 500 फ़ीट ऊँची मूर्ति बनवाने का निर्णय लिया गया। लेकिन अखिलेश यादव ने अपनी सरकार में अधिकारियों के बहकावे में आकर उसे 200 फ़ीट का करवा दिया। उसके बाद भी वो नहीं बन पाई। योगी सरकार में मैंने भीमराव अम्बेडकर की फोटो को सभी सरकारी कार्यालयों में लगाए जाने का प्रस्ताव रखा जिसे मुख्यमंत्री योगी ने स्वीकार किया।


सवाल: आपने भाजपा में आने का फैसला क्यों किया ?


जवाब: भाजपा सरकार की योजनाओं से प्रभावित होकर मैंने ये फैसला लिया। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा शुरू की गयी योजनाएं, चाहे वो आवास योजना हो, सिलेंडर योजना हो या राशन वतरण की योजना हो, इन सभी का 80 प्रतिशत तक लाभ दलित समज को मिला है। वांछित समाज के लिए ये सारी योजनाएं बहुत लाभकारी रही हैं।


सवाल: क्या इस चुनाव में अनुसूचित जाति भाजपा का समर्थन करेगी ?


जवाब: अनुसूचित जाति का वोटर भाजपा सरकार की योजनाओं का सबसे बड़ा लाभार्थी है और तो और इस वर्ग का वोटर भाजपा का फैन हो चूका है। जाटव समाज का वोटर मायावती के साथ जुड़ा हुआ था , लेकिन मायावती के कमज़ोर होने से जाटव समाज का भी एक बड़ा हिस्सा भाजपा के साथ जुड़ गया है। इसके अलावा गैर जाटव पहले से भाजपा के साथ था, अब इन योजनाओं से वो और मजबूती से भाजपा के प्रति लामबंद हो गया है।


सवाल: आपके अनुसार चार चरणों के मतदान में दलित वोट किसे ज्यादा मिला है ?


जवाब: दलित वोट भाजपा को ही मिल रहा है। जो कुछ वोट भाजपा को नहीं मिल रहे वो बसपा को मिलेंगे। समाजवादी पार्टी को दलित वोट बिलकुल भी नहीं मिल रहा है क्योंकि जो लोग बसपा छोड़कर सपा में गए हैं वो लीडर नहीं हैं।


सवाल: इस चुनाव में पिछड़ी जातियों का झुकाव किसकी तरह ज्यादा रहने वाला है ?


जवाब: बैकवर्ड वोट वैसे तो भाजपा को ही मिलेगा लेकिन कुछ कारणों से निश्चित रूप से कुछ वोट तो सपा में शिफ्ट हो रहा है। साथ ही राशन और राम मंदिर एक बड़ा मुद्दा है। जिसे राशन मिल रहा है वो वोट भाजपा को देगा। पिछड़े वर्गों में धर्म के प्रति प्रतिबद्धता भी ज़्यादा है। हालांकि कुछ गलतियां हुई है पर भयमुक्त प्रदेश होने से वोटर पूरी तरह से भाजपा के साथ है। बाबा का बुल्डोजर पूरे देश में चलेगा।


सवाल: जातीय जनगणना के मुद्दे पर क्या कहेंगे ?


जवाब: मैं पहले जातीय जनगणना का पक्षधर था। लेकिन अब आधुनिक दौर में ये आवश्यक नहीं है। जातीय जनगणना से जातियों में अहंकार आएगा। अब दुनिया बदल रही है हमें जातियों में नहीं उलझना चाहिए।


सवाल: 10 मैच को क्या नतीजे आएंगे ?


जवाब: भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगी। हालांकि सीट किसको कितनी मिलेंगी ये अभी नहीं कहा जा सकता है।


सवाल: युवाओं को क्या सन्देश देंगे ?


जवाब: मैं युवाओं से ये कहना चाहूंगा कि दुनिया बदल रही है इसलिए भारत को भी बदलना चाहिए। विकास के लिए ये ज़रूरी है कि एक अच्छा परिवेश और भयमुक्त प्रदेश हो। इसके लिए जाति और धर्म से ऊपर उठकर सोचें, अमेरिका और चीन कहाँ हैं उसी धारा में आगे बढ़ें।