• संवाददाता

भाजपा के सत्ता में आने के पहले कानून व्यवस्था चौपट थी: केशव

सरकार ने कानून व्यवस्था को अपनी प्राथमिकता रखा: मौर्य

मैनपुरी, सोशल टाइम्स। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि भाजपा के सत्ता में आने के पहले कानून व्यवस्था चौपट थी। भाजपा शासन में क़ानून के डर से अपराधी या तो जेल में रहे या फिर बिलों में।

सोमवार को मैनपुरी में मतदाता संवाद कार्यक्रम में उन्होंने आगे कहा कि इससे राज्य में शांति का माहौल बना और जनता चैन से रह सकी। मौर्य ने दावा किया कि करहल से भाजपा प्रत्याशी एसपी सिंह बघेल भारी मतों से चुनाव जीतने जा रहे हैं और सपा मुखिया अखिलेश यादव की हार तय है। उन्होंने कहा कि सपा कार्यकाल में 700 दंगे हुए थे, जबकि भाजपा की सरकार में एक भी दंगा नहीं हुआ। सरकार ने अपनी प्राथमिकता में सबसे ऊपर कानून व्यवस्था को रखा। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि सपा अब कभी सत्ता में वापसी नहीं कर सकती। उन्होंने सपा पे वार करते हुए कहा कि गुंडों, माफियाओं और दंगाइयों के संरक्षण में फलती-फूलती है समाजवादी पार्टी। उसकी उम्मीदवारों सूची इसकी गवाह है कि कुछ भी हो जाए पर अपराधियों का साथ नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि जिन्होंने कैराना से लोगों को पलायन के लिए मजबूर किया था, उनको सपा गठबंधन ने अपना प्रत्याशी बना दिया है। ऐसी हरकतों के कारण ही जनता ने सपा की साइकिल की हवा निकाल दी है। जनता ने उनके गठबंधन के नकार दिया है। बसपा का कहीं अता-पता नहीं है। वहीं भाजपा के साथ सभी वर्ग के लोग हैं। भाजपा ने सबका साथ, सबका विकास के नारे को हकीकत में बदला है। उपमुख्यमंत्री ने जनता से राज्य में भाजपा के पक्ष में 300 सीटों से अधिक सीटें जिताने की अपील की। उनका दावा है कि भाजपा की एक बार फिर सरकार बनेगी। भाजपा को समाज के सभी वर्गों का समर्थन है, गुंडे, अपराधियों और माफियाओं के भरोसे रहने वाले सपा गठबंधन का हाल भी उसके पुराने गठबंधनों की तरह ही होगा। 10 मार्च को गठबंधन की हवा निकलेगी और अखिलेश यादव का गठबंधन 50 सीटें भी पार नहीं कर पाएगा।