• ब्यूरो

मोदी जी का जीवन राष्ट्र व जन सेवा को समर्पित : भूपेंद्र सिंह


लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी लखनऊ महानगर द्वारा सेवा पखवाड़े के अंतर्गत विश्वेश्वरैया हॉल में प्रबुद्ध जन सम्मेलन के अंतर्गत जन सेवा को समर्पित मोदी@20 पुस्तक का विमोचन प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने किया । बड़ी संख्या में उपस्थित प्रबुद्धजनों को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि श्री नरेंद्र मोदी की कथनी और करनी में कोई अंतर नही है ।उन्होंने कहा मोदी जी का जीवन सेवा, समर्पण. सुशासन व ग़रीब कल्याण के लिए समर्पित रहा है।उन्होंने कहा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत पूरे विश्व में सशक्त राष्ट्र बनकर उभरा है। मोदी जी ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी के अंत्योदय के विचारो से प्रेरणा लेते हुए समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को सरकार की योजनाओं का लाभ मिले इसकी चिंता की।गरीब को घर , शौचालय बिजली ,चिकित्सा ,शिक्षा सहित अन्य सुविधाओं का लाभ मोदी सरकार ने दिया है।



भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि किसान,मजदूर,सामाजिक क्षेत्र में स्वच्छ भारत शौचालय अभियान के साथ आयुष्मान भारत जैसे स्वास्थ्य,आवास योजना से करोड़ों का कल्याण हो रहा है। अपना स्वयं का पक्का मकान प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का सपना होता है। मोदी जी ने करोड़ों सपनों को साकार किया और प्रत्येक सपने को साकार करने के लिए कार्य कर रहे है। श्री भूपेन्द्र ने कहा कि प्रत्येक ग़रीब कल्याण की योजना ग़रीबों तक पहुँची और देश आर्थिक व सामरिक रूप से संपन्न हुआ। यह मोदी जी की अद्वितीय प्रशासनिक क्षमता से सम्भव हो सका।


मोदी जी ने 20 वर्षों के राजनीतिक जीवन में गुजरात मुख्यमंत्री से लेकर देश के प्रधानमंत्री के कार्यकाल में

समाज के हर वर्ग के लोगों के जीवन को छुआ है।


मोदी @20 पुस्तक की चर्चा करते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा इस पुस्तक की प्रस्तावना स्वर कोकिला स्वर्गीय लता मंगेशकर ने लिखी है, जिन्हें भारत के हर प्रधानमंत्री के साथ संवाद करने और उनके साथ निकटता से बातचीत करने का गौरव प्राप्त था. इसलिए इस पुस्तक में पीएम मोदी को लेकर लताजी के विचार अद्वितीय ही माने जा सकते हैं।

यह पुस्तक पीएम मोदी के शासन के मॉडल पर विस्तार से बताती है जिसने समाज के एक वर्ग के लोगों के जीवन को छुआ है।

पुस्तक में नंदन नीलेकणी, सुधा मूर्ति, सद्गुरु, पीवी सिंधु, नंदन नीलेकणी गृह मंत्री अमित शाह विदेश मंत्री एस जयशंकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल उद्योगपति उदय कोटक अभिनेता अनुपम खेर पीएम के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा और अमीश त्रिपाठी जैसे प्रसिद्ध लेखकों और बुद्धिजीवियों द्वारा लिखे गए अध्याय के प्रमुख सारांशो का अपने उद्बोधन में जिक्र किया।