• ब्यूरो

मुलायम सिंह की अपील: शहीदों के परिवारों को कोई दिक्कत हो तो मदद करें

ये चुनाव भाग्य निर्णायक होगा, सभी इसे अपना चुनाव समझे: अखिलेश

लखनऊ, सोशल टाइम्स। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने कहा कि देश को आजादी दिलाने में जिन्होंने कुर्बानियां दी उनको हम श्रद्धापूर्वक याद करते हैं। इतिहास में वे अमर रहेंगे। उन्होंने अपील की कि शहीदों के परिवारों को कोई दिक्कत हो तो उनकी भरपूर मदद करें। समाजवादी पार्टी कार्यालय पर बुधवार को गणतंत्र दिवस पर पूर्व रक्षामंत्री मुलायम सिंह तथा सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने राष्ट्रध्वज फहराकर गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी।

इस दौरान अखिलेश यादव ने कहा कि देश को आजादी लम्बे संघर्ष और हजारों नौजवानों के त्याग, बलिदान से मिली है। इस आजादी, और लोकतंत्र तथा संविधान को बचाने का संकल्प लेना है। उन्होंने कहा देश में कुछ नकारात्मक सोच और समाज को बांटने वाले देश को पीछे ले जाना चाहते हैं। एक समय डॉ0 लोहिया और डॉ0 अम्बेडकर मिलकर काम करना चाहते थे पर परिस्थितियोंवश वैसा नहीं हो सका। अब हम समाजवादी अम्बेडकरवादी मिलकर ऐसी सरकार बनाएंगे जो गरीबों, किसानों, नौजवानों की बेहतरी के बारे में सोचेगी। यादव ने कहा भाजपा सरकार ने किसानों को अपमानित किया है। अन्नदाता का बेटा सीमा की रक्षा कर रहा है। यहां किसानों पर बल प्रयोग कर प्रताड़ित जा रहा है। उनके आंदोलन को कुचलने के लिए क्या-क्या नहीं किया गया। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि इस विधानसभा चुनाव को सभी अपना चुनाव समझे। यह भाग्य निर्णायक होगा। अखिलेश यादव ने कहा भाजपा के नेता अपने बयानों से चुनाव को दूसरी दिशा में ले जाना चाहते हैं। व्हाट्सऐप पर तमाम भ्रांतियां फैलाई जा रही है। हमें इससे सावधान रहना है। उन्होंने कहा ओपीनियन पोल वास्तव में ओपियम पोल है। उन्होंने कहा यह चुनाव जनता का चुनाव है। उन्होंने कहा कि पंजाब में प्रधानमंत्री जी की सभा में कुर्सियां खाली पड़ी थी। यहां भी ऐसा ही नजारा भाजपा को देखने को मिलेगा।

गणतंत्र दिवस समारोह में सपा उपाध्यक्ष किरनमय नंदा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, राजेन्द्र चौधरी राष्ट्रीय सचिव, नरेश उत्तम पटेल प्रदेश अध्यक्ष मौजूद रहें । इस अवसर पर अखिलेश कटियार राष्ट्रीय सचिव, समाजवादी युवजन सभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष विकास यादव, जयशंकर पाण्डेय, अरविन्द सिंह गोप पूर्व मंत्री, राकेश वर्मा पूर्व मंत्री, सुनील साजन, आनन्द भदौरिया, संतोष यादव सनी, बासुदेव यादव, उदयवीर सिंह, आदि भी उपस्थित रहें।