• संवाददाता

पुनर्वास विश्वविद्यालय के स्थापना दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए नरेंद्र कश्यप


लखनऊ। प्रदेश के दिव्यांगजन सशक्तीकरण एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नरेन्द्र कश्यप मुख्य अतिथि के रूप में डा. शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय के 14 वें स्थापना दिवस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। उन्होने कार्यक्रम को संबोधित करते हुये विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों से अपेक्षा की है कि विश्वविद्यालय को मंदिर समझिये, विश्वविद्यालय की चिन्ता करें और अपनी जिम्मेदारी को समझें तथा अनुशासन में रहकर शिक्षा प्राप्त करें, सफलताओं का कोई अंत नहीं होता है। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार आपके साथ है और मै आपके खुशियाली हेतु विश्वविद्यालय लगातार आता रहूंगा और आप लोगों के साथ खड़ा रहूंगा। उन्होने कहा कि जिस समय डा शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय की स्थापना हुई थी, उस समय भी मै मौजूद था और आज ज़ब 14वां स्थापना मनाया जा रहा है इस समय मै मंत्री के पद पर रहकर उपस्थित हूँ यह मेरे लिए सौभाग्य की बात है। इस अवसर पर विश्वविद्यालय और एडुनेट फाउंडेशन के मध्य आई. वी.एम.स्किल्स बिल्ड कार्यक्रम के लिए एम.ओ.यू पर हस्ताक्षर हुआ। इससे विद्यार्थियों को निःशुल्क तकनीकी शिक्षा का अवसर दिया जाएगा।


मंत्री नरेन्द्र कश्यप ने इस अवसर पर राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित प्रतियोगिताओं में पुरस्कृत/ प्रतिभाग करने वाले विद्यार्थियों एवं विश्वविद्यालय में कार्यरत कर्मचारियों को प्रशस्ति- पत्र देकर सम्मानित किया गया। अंतराष्ट्रीय स्तर के 04 सामान्य एवं दिव्यांग विजेता खिलाड़ियों को प्रशस्ति पत्र व रूपये 5100 नकद तथा राष्ट्रीय स्तर के 17 व ललित कला के 05 सामान्य एवं दिव्यांग विजेता खिलाड़ियों को प्रशस्ति पत्र एवं रुपये 2100 नगद दिया गया। विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो प्रमोद कुमार सिंह के समावेशी शिक्षा के क्षेत्र में विशेष योगदान हेतु तथा विश्वविद्यालय में प्रतिनियुक्ति पर तैनात संयुक्त निदेशक/ चिकित्सा अधीक्षक डा कमलेश यादव के विश्वविद्यालय कर्मियों और विद्यार्थियों हेतु चिकित्सा तथा स्वास्थ्य के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान हेतु सम्मानित किया गया।


कुलपति प्रो. राणा कृष्ण पाल सिंह की अध्यक्षता में विश्वविद्यालय के अटल प्रेक्षागृह में आयोजित किया गया। कार्यक्रम के दौरान विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। उक्त कार्यक्रम का सफल संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन डा. कौशिकी सिंह, समन्वयक संस्कृतिक समिति द्वारा किया गया।