• संवाददाता

प्रदेश भर मे निकली एनपीएस निजीकरण भारत छोड़ो पदयात्रा

शिक्षक एवं कर्मचारी संगठनों ने भरी हुंकार

लखनऊ, सोशल टाइम्स। शुक्रवार को एनपीएस और निजीकरण के खिलाफ अटेवा के आवाहन पर पूरे प्रदेश के प्रत्येक जिला मुख्यालय पर एनपीएस निजीकरण भारत छोड़ो पदयात्रा बड़ी जोर शोर से निकाली गई। एनएमओपीएस के राष्ट्रीय अध्यक्ष व अटेवा के प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार बन्धु ने कहा कि सरकार पुरानी पेंशन बहाली का निर्णय ले नहीं तो आगामी चुनाव में इसका भुगतान सरकार को करना पड़ेगा। यह पश्चिम बंगाल पुरानी पेंशन दे सकता है तो तबले सरकार क्यों नहीं?? विजय बन्धु ने आगे कहा कि जहां एनपीएस से शिक्षकों कर्मचारियों का भविष्य खराब हो रहा है वहीं निजीकरण से वर्तमान चौपट हो रहा है। 21 नवंबर की इको गार्डन लखनऊ की रैली आज की जिला मुख्यालय पर हुई है भारी भीड़ को देखते हुए अंदाजा लगाया जा सकता है कि कितनी ऐतिहासिक रैली होने जा रही है ।

चिकित्सा स्वास्थ्य महासंघ के प्रधान महासचिव अशोक कुमार ने कहा कि अटेवा की लड़ाई न्याय की लड़ाई है अधिकार की लड़ाई है और जहां भी हक और हुकूक की बात आएगी हमारा पूरा समर्थन रहेगा। पीडब्ल्यूडी विभाग के वरिष्ठ कर्मचारी नेता भारत सिंह यादव ने कहा कि वक्त आ गया है कि पुरानी पेंशन को लेकर के आर पार की लड़ाई लड़नी होगी और उसकी पृष्ठभूमि अटेवा ने तैयार कर दी है सभी संगठनों को एक स्वर में उस दिशा में कदम बढ़ाना होगा। लुअक्टा के अध्यक्ष मनोज पांडे ने कहा कि यह सरकार तानाशाही पर उतर कर रोज सरकारी संस्थाओं को निजी हाथों में सौंपती जा रही है इससे रोजगार का संकट और बढ़ेगा, वक्त है सभी साथ खड़े हो। श्रम एवं सेवायोजन कर्मचारी संघ के अमित यादव ने कहा कि पुरानी पेंशन कर्मचारी शिक्षक का अधिकार है पुरानी पेंशन सरकार को तुरंत बहाल करनी चाहिये। अटेवा के महामंत्री डॉ नीरजपति त्रिपाठी ने कहा कि पुरानी पेंशन शिक्षक, कर्मचारी व अधिकारी का स्वाभिमान है। प्रदेश मीडिया प्रभारी डॉ राजेश कुमार ने कहा कि जब पश्चिम बंगाल राज्य अपने शिक्षकों और कर्मचारियों को पुरानी पेंशन दे सकता है तो उ.प्र. क्यों नहीं दे सकता। पदयात्रा में सुनील यादव, कमल किशोर श्रीवास्तव,सुरेश यादव, विक्रमादित्य मौर्य, रजत प्रकाश, डॉ विनीत वर्मा,डॉ राजेन्द्र वर्मा, शैलेन्द्र रावत,रविन्द्र वर्मा, सुनील वर्मा, डॉ उमाशंकर, अर्जुन यादव, दूधनाथ, नरेंद्र यादव,हेमंत सिंह , संदीप बडोला, श्रवण सचान, जे.पी. तिवारी,राम लाल यादव, प्रदीप गंगवार,सीमा शुक्ल, यदुनंदिनी सिंह, सुरेंद्र पाल,संजय रावत, डॉ0दिवाकर यादव,भूपेंद्र सिंह,विवेक यादव, रेनू शुक्लाआदि ने भाग लिया।