• ब्यूरो

पार्थ श्रीवास्तव की बहन ने लगाया कार्रवाही ना होने का आरोप



लखनऊ। मुख्यमंत्री के सोशल मीडिया सेल में कार्यरत पार्थ श्रीवास्तव की खुदकुशी के मामले में पार्थ की बहन ने पुलिस पर कार्रवाई ना करने का आरोप लगाया है।


इंदिरानगर के सेक्टर-9 वैशाली एन्क्लेव में रहने वाले रवींद्रनाथ श्रीवास्तव का बेटा पार्थ श्रीवास्तव मुख्यमंत्री के सोशल मीडिया सेल में संविदा पर काम करता था। बुधवार को उसने घर में फांसी लगा ली थी। उसने दो पन्ने का सुसाइड नोट लिखा। जिसमें अपने दो वरिष्ठ संविदा कर्मचारी पुष्पेंद्र सिंह और शैलजा पर प्रताड़ना का आरोप लगाया।


पार्थ की बहन शिवानी श्रीवास्तव ने कहा कि उसका भाई सरकार के लिए परिवार में भी लड़ जाता था। उसके टीम में ही कुछ गड़बड़ी थी। जिसके कारण वह तनाव में रहता था। कई बार घर पर भी बातचीत के बाद गुस्से में टीम के कुछ वरिष्ठों का नाम लेता था। इससे वह परेशान हो चुका था।


वह मेहनती युवक था। उसे पुष्पेंद्र और शैलजा ने काफी परेशान किया है।

शिवनी ने कहा कि वह खुद को बेगुनाह साबित नहीं कर सका तो खुदकुशी कर ली। उसने सवाल उठाया कि उसके सोशल मीडिया प्लेटफार्म से अंतिम मेसेज डिलीट किए गए। जबकि मोबाइल पुलिस के पास थे।


शिवानी ने पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया है। शिवानी ने बातचीत के दौरान कहा कि पुष्पेंद्र और शैलजा से वह पूछना चाहती है कि पार्थ ने ऐसा क्या गलत काम कर दिया था कि उसे इतना प्रताड़ित किया गया कि उसकी मौत हो गई। मुझे न्याय चाहिए।


प्रभारी निरीक्षक इंदिरानगर अजय प्रकाश त्रिपाठी ने बताया कि तीन दिन बाद भी परिवारीजनों की तरफ से कोई तहरीर नहीं मिली है। परिवारीजन तहरीर देते हैं और उच्चाधिकारियों द्वारा अगर कोई निर्देश दिया जाता है। उसके अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।