• एजेंसी

पीएम ने बेसहारा बच्चों को वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया लाभान्वित


गोरखपुर (न्यूज़ ऑफ इंडिया) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना काल में बेसहारा हुए बच्चों को आज पीएम केयर्स फाॅर चिल्ड्रेन योजना के तहत वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लाभान्वित किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनपद गोरखपुर से इस कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से सम्मिलित हुए।          

प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के उपरान्त मुख्यमंत्री ने कोरोना काल में बेसहारा हुए बच्चों से भेंट की और उन्हें उपहार वितरित किये। उपहार के साथ मुख्यमंत्री ने बच्चों को प्रधानमंत्री जी की तरफ से आए स्नेह पत्र, पोस्ट ऑफिस में खोले गये उनके खातों की पासबुक तथा आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत स्वास्थ्य कार्ड प्रदान किए। उन्होंने बच्चों को स्कूल बैग, लंच बॉक्स, वाॅटर बॉटल व पठन सामग्री भी भेंट की।            

मुख्यमंत्री ने बच्चों से संवाद करते हुए उनका हालचाल जाना और पढ़ाई के बारे में जानकारी प्राप्त की। बच्चों को खूब पढ़ने और खूब आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हुए उन्होंने कहा कि आपको अपनी पढ़ाई, भविष्य या अन्य किसी भी बात के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में केंद्र व प्रदेश सरकार हर पल आपके साथ खड़ी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन बच्चों के सम्मानजनक जीवन यापन से लेकर उनकी पढ़ाई तक की जिम्मेदारी सरकार उठा रही है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि इन बच्चों को कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए।            

ज्ञातव्य है कि पी0एम0 केयर्स फाॅर चिल्ड्रेन योजना के अन्तर्गत प्रदेश के कुल 441 बच्चों को लाभान्वित किया गया है, जिनमें जनपद गोरखपुर के 11 बच्चे भी शामिल हैं। गोरखपुर के पात्र 11 बच्चों में दो बालिकाएं और 09 बालक हैं। इन 11 बच्चों में से 03 की आयु 18 वर्ष या इससे अधिक है, जबकि 08 बच्चे 18 वर्ष से कम आयु के हैं। जिन बच्चों की आयु 18 वर्ष या इससे अधिक है, उन्हें इस योजना के तहत 10 लाख रुपये की धनराशि उपलब्ध कराई गई है। जबकि 18 वर्ष से कम आयु वाले पात्र बच्चों को पात्रता के अनुसार 04 लाख रुपये से लेकर 09 लाख रुपये उपलब्ध कराये गये हैं।          

पी0एम0 केयर्स फाॅर चिल्ड्रेन योजना की धनराशि पोस्ट ऑफिस में जिलाधिकारी की गार्जियनशिप में खोले गए खातों में प्रेषित की गई है। 18 वर्ष से कम आयु वाले पात्र बच्चों के 18 वर्ष के होने तक धनराशि फिक्स्ड डिपॉजिट के रूप में जमा रहेगी, जो उनके 18 वर्ष के होने तक ब्याज सहित बढ़कर 10 लाख रुपये हो जाएगी। 18 से 23 वर्ष की आयु तक उन्हें 10 लाख रुपये पर प्रतिमाह 5,500 रुपये ब्याज के रूप में मिलेंगे। 23 वर्ष की उम्र पूरी होने पर उन्हें जमा सम्पूर्ण धनराशि 10 लाख रुपये मिल सकेगी।          

इस योजना में पात्र बच्चों को 05 लाख रुपये तक के निःशुल्क इलाज की सुविधा के लिए आयुष्मान भारत योजना के तहत स्वास्थ्य कार्ड भी उपलब्ध कराया गया है। साथ ही जो बच्चे कक्षा 01 से 12 तक में अध्ययनरत हैं, उनकी पढ़ाई के लिए 20,000 रुपये की वार्षिक छात्रवृत्ति दी जा रही है। बच्चों के लिए केंद्र सरकार के आवासीय विद्यालयों में शिक्षा की व्यवस्था कराई जाएगी।