• ब्यूरो

संजय सिंह ने मंत्री-अफसरों के खिलाफ दी तहरीर


लखनऊ, सोशल टाइम्स। बुधवार को आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने प्रदेश में कोरोना के तीसरी लहर से बचाव के नाम हो रही चिकित्सा उपकरण खरीद में बड़े पैमाने पर घोटाला किए जाने का आरोप लगाया है। साथ ही उन्होंने चिकित्सा शिक्षा मंत्री समेत प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा, विभिन्न चिकित्सा संस्थानों को निदेशक और राजकीय मेडिकल कॉलेजों के प्रधानाचार्यों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए राजधानी के हजरतगंज थाने में तहरीर भेजी है। उन्होंने कहा कि यदि उनकी तहरीर पर थाने में मुकदमा दर्ज नहीं होता है तो वह कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाएंगे।



संजय सिंह ने पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि तीसरी लहर की आशंका के नाम पर बड़े पैमाने पर बच्चों के लिए वेंटीलेटर सहित तमाम चिकित्सकीय उपकरण खरीदने के नाम पर बड़े पैमाने पर घोटाला किया गया है। अपने आरोप से संबंधित सभी कागजात होने का दावा करते हुए कहा कि जो वेंटिलेटर केजीएमयू में 10 लाख रुपये में खरीदा जा रहा है वही प्रदेश के दूसरे मेडिकल कॉलेजों में 27, 22 और 37 लाख में खरीदा गया गया है। इसी प्रकार तमाम मॉनिटर आदि उपकरण भी बाजार दर से 2 से 4 गुना महंगे दामों में खरीदा गया है।



उन्होंने कहा कि चिकित्सा शिक्षा मंत्री उपकरण खरीद में भ्रष्टाचार की बात भले ही नकार रहे हैं, लेकिन कागजात सच्चाई का बयां कर रहे हैं। एसजीपीजीआई और लोहिया संस्थान समेत सभी राजकीय मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्यों द्वारा बाजार दर से महंगे दाम पर उपकरण खरीदे जा रहे हैं। एक ही कंपनी का वेंटिलेटर दो अलग-अलग संस्थाओं द्वारा अलग-अलग दामों में खरीदा गया है। इसीलिए चिकित्सा शिक्षा मंत्री, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा, एसजीपीजीआई व लोहिया संस्थान के निदेशक समेत सभी राजकीय मेडिकल कॉलेजों के प्रधानाचार्यों के खिलाफ धारा 409, 119, 120, 13 (2) और 15 में एफ आईआर दर्ज करने की तहरीर दे दी है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी जल्द ही लोकायुक्त से भी इस मामले की शिकायत करेंगे।