• ब्यूरो

समाज सुधारक के रूप में सावित्री बाई फूले का नाम अविस्मरणीय रहेगा: लल्लू

कांग्रेस कार्यालय पर मनाई गयी सावित्री बाई की जयंती

लखनऊ, सोशल टाइम्स। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अजय कुमार लल्लू ने कहा कि समाज सुधारक के रूप में सावित्री बाई फूले का नाम अविस्मरणीय रहेगा। यह सावित्री बाई फूले के दृढ़ संकल्प का परिणाम रहा कि शिक्षा के क्षेत्र में ऐतिहासिक सुधार करने की एक बार ठान ली तो उसे पूरा करके ही दिखाया।

सोमवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पर सावित्री बाई फूले की जयंती मनाई गयी। इस अवसर पर लल्लू ने कहा कि महाराष्ट्र के एक दलित परिवार में 03 जनवरी 1831 को सतारा जिले के एक छोटे से गांव (नायेगांव) में जन्मी सावित्री बाई जी हिन्दुस्तान के पहले बालिका विद्यालय की शिक्षिका, प्रिंसिपल रहते हुए पहले किसान स्कूल की स्थापना की । उन्होंने कहा कि सन 1840 में नौ साल की उम्र में विवाह के बंधन में बांध दिया गया। फिर भी अपने संघर्ष को जारी रखते हुए कठिन परिश्रम कर अध्ययन करती रहीं। उन्होंने सिर्फ पढ़ना ही नहीं सीखा बल्कि अनगिनत लड़कियों को शिक्षा देकर उनका भविष्य सवांरने का कार्य किया। अजय लल्लू ने कहा कि देश के पहले बालिका स्कूल की स्थापना सन 1848 में महाराष्ट्र के पुणे में सावित्री बाई फूले   जी द्वारा की गयी। श्रीमती फूले जी को प्रथम शिक्षिका होने का भी श्रेय जाता है।

इस अवसर पर राष्ट्रीय सचिव सत्य नारायण पटेल, प्रदीप नरवाल, पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी, पूर्व विधायक सतीश आजमानी, जिला कांग्रेस कमेटी लखनऊ अध्यक्ष वेद प्रकाश त्रिपाठी, शहर अध्यक्ष द्वय अजय श्रीवास्तव अज्जू, दिलप्रीत सिंह डीपी, महासचिव सुबोध श्रीवास्तव, सैफ अली नकवी, पिछड़ा वर्ग विभाग कार्य0 चेयरमैन मनोज यादव, तनुज पुनिया दुर्गविजय सिंह मान, रमेश शुक्ला, फिरोज खान, रेहान अहमद, अनीस अंसारी, मीडिया संयोजक अशोक सिंह, प्रवक्तागण कृष्णकांत पाण्डेय, प्रियंका गुप्ता, संजय सिंह, सचिन रावत, अजय चन्द्र चौबे आदि लोग उपस्थित रहे।