• ब्यूरो

एसडीएम मोहनलालगंज ने खुद पर लगे आरोपों को बताया फर्जी, भेजा लीगल नोटिस



लखनऊ। एसडीएम मोहनलालगंज पर ऑक्सीजन प्लांट व अन्य उद्योग लगाने के लिए जमीन का भू-उपयोग बदलने के लिए 25 लाख रुपये की घूस मांगने का आरोप लगा है।


इन आरोपों पर एसडीएम मोहनलालगंज विकास सिंह का कहना है कि यह मामला एकतरफा और फर्जी है। ऐसी कोई फाइल मेरे न्यायालय में विचाराधीन नहीं है। मार्च में एक पत्रावली मेरी सामने आयी थी, जिसमें दो से तीन दिन के अंदर आदेश करने का मुझपर दबाव बनाया जा रहा था। इसपर मैंने वह पत्रावली उप जिलाधिकारी न्यायिक मोहनलालगंज को स्थानांतरित कर दी थी। मैं इस मामले मे जांच कराने के लिए तैयार हूं। मुझ पर गलत आरोप लगाया गया है।


भेजा लीगल नोटिस


मामले में एसडीएम ने हाइकोर्ट के वकील सत्येंद्र त्रिपाठी के माध्यम से आरोप लगाने वाले अकाउंट को लीगल नोटिस भेजा है। नोटिस में कहा गया कि अधिकारी की छवि खराब करने के लिए ट्वीट हुआ। उसमे अकाउंट चलाने वाली @pratimalko से अपनी पहचान बताने, ट्वीट को हटाने व माफी मांगने को कहा गया है।


क्या है मामला


प्रतिमा नाम से बने अकाउंट से ट्वीट किया गया है कि हमारी कंपनी 100 करोड़ रुपये लगाकर ऑक्सीजन प्लांट व अन्य उद्योग लगाना चाह रही है। मोहनलालगंज एसडीएम जमीन का लैंडयूज बदलने के लिए 25 लाख रुपये मांग रहे हैं। पैसा न मिलने पर सिंडीकेट बनाकर हमारी फाइल को इधर से उधर दौड़ाया जा रहा है। इस मामले में जिला प्रशासन से आवश्यक कार्रवाई की मांग की गई है। उनका आरोप है कि डीएम की ईमेल आईडी के अलावा पोस्ट से भी भेजे जा चुके हैं। अब तक 80 आवेदन दिए जा चुके हैं। संभव है कि एडीएम स्तर के अधिकारी भी इसमें शामिल हों और जानकारी डीएम तक न पहुंचने दे रहे हैं। उनका कहना है कि डीएम खुद निरीक्षण कर लें। उद्योग विभाग में भी सारे कागज दिए जा चुके हैं। उनके अधिकारी मौके पर निरीक्षण भी कर चुके हैं।


वहीं शिकायत ट्विटर पर वायरल होने के बाद डीएम ने खुद रीट्वीट कर प्रतिमा से पूरे मामले में जानकारी ईमेल करने के लिए कहा है। उनका कहना है कि जांच कराकर इस प्रकरण में कार्रवाई की जाएगी।