• ब्यूरो

सपा ने की '300 यूनिट मुफ्त बिजली पाओं, नाम लिखाओं' अभियान की घोषणा

जिस नाम से बिजली कनेक्शन है, उसी नाम से फॉर्म भरें: अखिलेश

लखनऊ, सोशल टाइम्स। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को प्रदेश में '300 यूनिट मुफ्त बिजली पाओं, नाम लिखाओं' अभियान की घोषणा करते हुए कहा कि 19 जनवरी से समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता घर-घर जाकर इस अभियान का फॉर्म भराएंगे। इसमें कोई छूटे नहीं। यह अभियान डिजिटल प्लेटफार्म पर भी चलेगा।

अखिलेश ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए अपील की कि जिन लोगों के पास बिजली का कनेक्शन है, वह उसी नाम से फॉर्म भरें, जिस नाम से बिजली कनेक्शन है। जिनके पास बिजली कनेक्शन नहीं है वह राशन कार्ड या आधार कार्ड में उल्लेखित नाम लिखाएं। यादव ने कहा कि भाजपा ने जनता को ठगा है। बिजली का बिल बढ़ा-चढ़ाकर भेजा जा रहा है। आम जनता बहुत परेशान हैं। कई लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हुई है। समाजवादी पार्टी ने जनता को राहत देने के लिए 300 यूनिट घरेलू बिजली मुफ्त देने की पहले ही घोषणा की है। उन्होंने कहा कि हमें अपनी बात जनता के बीच रखनी है। अब रैली सभा तो होनी नहीं है। चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन करते हुए हमारे कार्यकर्ता और प्रत्याशी जनता के बीच इस अभियान में जाएंगे। यादव ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में भी बिजली कनेक्शन है। कुछ महीनों से बिजली के बिल नहीं आने की खबरें हैं। कहीं बढ़े हुए हजारों के बिल आ रहे हैं। इस बार जनता का ऐसा करंट लगेगा कि भाजपाइयों की जमानते जब्त हो जाएगी। खराब मीटर की जगह गुणवक्ता वाले मीटर लगना चाहिए।

अखिलेश ने कहा कि सबसे ज्यादा आपराधिक मुकदमे भाजपा नेताओं के ऊपर हैं। मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के ऊपर गंभीर धाराएं हैं। भाजपा ने उन्हें टिकट क्यों दिया और मुख्यमंत्री क्यों बनाया? अगर गंभीर मुकदमों की बात हो तो भाजपा कभी चुनाव नहीं लड़ पाएगी। अब्दुल्लाह आजम पर लगे मुकदमों को लेकर उन्होंने कहा कि इनके खिलाफ भाजपा और कांग्रेस दोनों ने मिलकर झूठे मुकदमे लगवाए। यादव ने कहा कि भाजपा के लोग अन्नदाता को आतंकवादी कहते हैं तो किसानों द्वारा पैदा किया गया अनाज क्यों खाते हैं। आज किसानों के धान की लूट हो रही है, अभी गन्ने का बकाया भुगतान नहीं हो रहा है। अब तो हमारे साथ स्वामी प्रसाद मौर्य समेत और भी कई बड़े नेता आ गए हैं। वहीं दूसरी तरफ जनता भाजपा से बहुत नाराज हैं। भाजपा हार के डर से बौखलाई हुई है। समाजवादी पार्टी के नेताओं और सहयोगी दलों पर झूठे मुकदमे लगाकर परेशान कर रही है। प्रदेश का किसान, नौजवान, बेरोजगार, भाजपा के इस अन्याय अत्याचार का जवाब देगा। उन्होंने कहा कि हम बीपीएड टीईटी, शिक्षामित्र समेत तमाम उन संगठनों के साथ हैं, जो नौकरी और रोजगार के लिए लगातार अपनी मांग कर रहे हैं। हम उनके ज्ञापन और मांगों को अपने घोषणा पत्र में शामिल करेंगे। समाजवादी पार्टी की सरकार में लखनऊ में एचसीएल आया जिसमें चार हजार से ज्यादा लोगों को प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष नौकरी और रोजगार मिला है। लखनऊ मेट्रो में तीन हजार से ज्यादा नौकरियां मिली। कानपुर मेट्रो में 12 सौ नौकरियां मिली।