• ब्यूरो

सपा के प्रत्याशी चुनाव के बाद नजर नहीं आएंगे: योगी


लखनऊ/जौनपुर, सोशल टाइम्स। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सपा ने जो प्रत्याशी उतारा है चुनाव के बाद वो नजर नहीं आएंगे। इस बार यहां चुनाव लड़ेंगे, दूसरी बार वहां चुनाव लड़ेंगे, तीसरी बार वो बिहार चुनाव लड़ने जाएंगे। इन लोगों का कोई भरोसा नहीं है। स

योगी ने शुक्रवार को जौनपुर के मड़ियाहूं विधानसभा में जनसभा को सम्बोधित करते हुए कही। वो समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी पर हमलावर दिखे। उन्होंने जनता से कहा कि विकास और बुलडोजर साथ-साथ चले इसके लिए मजबूत सरकार चाहिये। सपा-बसपा की सहानुभूति गरीब के लिए, महिलाओं की सुरक्षा के लिए नहीं है। उनकी सहानुभूति तो पेशेवर अपराधी, माफियाओं और आतंकवादियों के साथ है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि आप अनुमान कर सकते हैं पांच साल में से दो साल तक तो जनता जनार्दन के बचाव करने में ही व्यतीत हुए। उसके बावजूद पूरी ईमानदारी के साथ हमारी सरकार ने काम किया। उन्होंने कहा कि छह चरणों के चुनाव सम्पन्न हो चुके हैं। पहले दिन से ही मैं ही प्रचार कर रहा हूं। अधिकतर सीटों पर हम जा चुके हैं। मैं कह सकता हूं कि छह चरण के रुझान बताते हैं कि एनडीए का गठबंधन फिर से प्रचंड बहुमत के साथ उत्तर प्रदेश में सरकार बना रहा है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि आपने देखा होगा चुनाव की घोषणा के बाद जो समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी से जुड़े हुए पेशेवर माफिया और अपराधी आए थे। साढ़े चार वर्ष तक जो लोग छुपे हुए थे उन लोगों ने चुनाव की घोषणा के बाद एक बार फिर से माहौल खराब करने का प्रयास शुरू किया। लेकिन जब तीसरे चरण के दौरान रुझान आने शुरू हो गये कि भाजपा की सरकार ही उत्तर प्रदेश की सरकार बनने वाली है। तो इनमें से सपा-बसपा के बहुत सारे नेताओं ने विदेशों के टिकट अभी से बुक कराने शुरू कर दिये हैं। 10 मार्च को जब परिणाम आएंगे ता उनके ज्यादातर नेता भाग चुके होंगे । माफिया और अपराधी भी अपने बिलों में घुसते हुए दिखाई देंगे। मुख्यमंत्री योगी ने जनता से पूछा कि 2017 से पहले आपको बिजली मिलती थी क्या। 2017 के बाद तो मिली है ना। सबको बिजली, पर्याप्त बिजली देने का लक्ष्य भी हमने प्राप्त किया। कोरोना में फ्री में उपचार, फ्री में टेस्ट, फ्री में वैक्सीन। सपा-बसपा की सरकार होती तो सारी वैक्सीन बिक जाती बाजार में। किसी गरीब को वैक्सीन नहीं मिल पाती। उन्होंने कहा कि ये गरीबों का राशन खा जाते थे, विकास की बड़ी-बड़ी परियोजनाओं पर डकैती डालते थे। इन्ही माफियाओं के लिए तो हम लोगों ने बुलडोजर बनाया है। ये हाई-वे भी बनाता है और माफिया और अपराधियों की बोलती भी बंद करता है। बुलडोजर बोलता नहीं है लेकिन माफियाओं की बोलती बंद कर देता है। आपने देखा होगा जौनपुर जो इत्र की नगरी के रूप में कभी विख्यात था लेकिन समाजवादी इत्र का जिक्र आया तो पता लगा कि वो तो सब गरीबों का राशन और पैसा लेकर बैठा हुआ है। इत्र का तो केवल बोर्ड लगा हुआ था। इत्र बनता नहीं था। जब हम लोगों ने वहां बुलडोजर का उपयोग किया तो गड्डी की गड्डी, ढेर के ढेर, पहाड़ के पहाड़ नोटों के निकलते हुए दिखाई दिये। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि गरीबों को सहायता मिलनी चाहिये या नहीं, नौजवानों को रोजगार मिलना चाहिये या नहीं मिलना चाहिये। गरीबों का राशन मिलना चाहिये या नहीं मिलना चाहिये। लेकिन सपा-बसपा के एजेंडे में यह नहीं है।