• ब्यूरो

अगस्त से अक्टूबर तक आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर


लखनऊ। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर अगस्त से अक्तूबर तक आ सकती है। बताया गया कि इसकी चपेट में आने पर एक से 20 साल तक की उम्र वालों पर ज्यादा खतरा रहेगा।


सलाहकार समिति ने सौंपी रिपोर्ट


शासन द्वारा गठित सलाहकार समिति ने विभिन्न स्तरों पर समीक्षा करने के बाद संक्रमण की रोकथाम एवं उपचार को लेकर अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। समिति की रिपोर्ट के बाद शासन की ओर से प्रमुख सचिव आलोक कुमार ने निर्देश दिया है कि महामारी की संभावित तीसरी लहर के उपचार एवं प्रभावी नियंत्रण को लेकर पुख्ता रणनीति बनाई जाए।


चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति, स्थानों के निदेशक एवं मेडिकल कॉलेजों के प्रधानाचार्य को भेजे गए निर्देश में जल्द से जल्द पीआईसीयू का निर्माण पूरा कराने के लिए कहा गया है। प्रमुख सचिव ने बताया कि राजकीय मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में 54 बेड का पीआईसीयू बनाया जा रहा है।


रिपोर्ट


रिपोर्ट में समिति ने बताया कि -


  • पीडियाट्रिक संक्रमण की अवधि दो माह रहने की संभावना है। 

  • एक से 20 वर्ष तक के लोगों में संक्रमण की दर अधिक रह सकती है। 

  • सभी चिकित्सा संस्थान एवं मेडिकल कॉलेज कोविड वार्ड में पीडियाट्रिक मरीजों के उपचार में प्रयोग होने वाले उपकरण, दवाओं का इंतजाम कर लें। चिकित्सकों एवं अन्य स्टाफ की भी व्यवस्था की जानी चाहिए।