• ब्यूरो

दंगाइयों को गले लगाने वाले प्रदेश के हितैषी नहीं हो सकते: योगी

आज कोई उत्तर प्रदेश में दंगा नहीं कर सकता: मुख्यमंत्री

लखनऊ, सोशल टाइम्स। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि दंगाइयों को गले लगाने वाले प्रदेश के हितैषी नहीं हो सकते। समाजवादी पार्टी और उससे पहले बसपा व कांग्रेस की सरकारों की यही परिपाटी थी। अराजकता के लिए इन पार्टियों ने प्रदेश को गिरवी रख दिया था। आज कोई उत्तर प्रदेश में दंगा नहीं कर सकता, अराजकता नहीं फैला सकता। सभी दंगाइयों को मालूम है कि दंगा करेंगे तो सात पीढ़ियां भी भरपाई करते-करते थक जाएंगी। आज माफिया के खिलाफ कार्रवाई होती है तो सबसे अधिक पीड़ा इनके सरपरस्त सपा, बसपा व कांग्रेस को होती है।

गुरुवार को महाराजगंज जनपद के फरेंदा में जन विश्वास यात्रा के दौरान जनता को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 के पहले देश का वातावरण क्या था यह सबको पता है। 2014 के बाद इसमें व्यापक परिवर्तन आया है। 2014 के पूर्व देश में अविश्वास, अराजकता, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, उग्रवाद का माहौल था। देश के नागरिकों में सरकार के प्रति गुस्सा था। 2014 में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में देश में भाजपा की सरकार बनी तो जन-जन में नेतृत्व के प्रति विश्वास जागृत हुआ। वैश्विक मंच पर देश की प्रतिष्ठा बढ़ी। कल्याणकारी योजनाओं का लाभ गरीबों तक पहुंचा। तमाम हाईवे व एयरपोर्ट बने, जल मार्ग से यातायात शुरू हुआ, रेलवे की सुविधाओं का विस्तार हुआ। विकास के अनेक अनेक कार्य हुए। गरीबों को मुफ्त आवास, मुफ्त शौचालय, मुफ्त राशन व मुफ्त आयुष्मान स्वास्थ्य योजना का लाभ मिला। इससे उनके जीवन में व्यापक परिवर्तन आया है।

उन्होंने कहा कि पहले की सरकारें सत्ता को परिवारवाद की जागीर मानती थीं। दंगाइयों को प्रश्रय देती थीं, प्रदेश में अराजकता को बढ़ावा देती थीं। उनके शासनकाल में नौजवान बेरोजगार था, किसान बदहाल व महिलाएं असुरक्षित थीं। प्रदेश के नागरिकों के सामने पहचान का संकट था। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में प्रदेश की जनता ने भाजपा को आशीर्वाद दिया तो बीते पौने पांच साल में इस सरकार की कार्यपद्धति जनता देख रही है। उन्होंने कहा कि 2017 तक प्रदेश में जो सरकार थी वह केंद्र की जनकल्याणकारी योजनाओं को लागू नहीं करती थी। गरीबों के आवास का पैसा कहां जाता था, यह हर व्यक्ति को पता है। आज राज्य की भाजपा सरकार ने 43 लाख गरीबों को आवास, 2.61 करोड़ को शौचालय, 1.43 करोड़ को निशुल्क बिजली कनेक्शन दिया है। छह करोड़ लोग निशुल्क स्वास्थ्य बीमा से कवर किए गए हैं। वृद्धावस्था, निराश्रित, दिव्यांग आदि पेंशन योजनाओं की धनराशि में भारी बढ़ोतरी की गई है। सबको मुफ्त राशन, मुफ्त जांच, मुफ्त इलाज व मुफ्त वैक्सीन की सुविधा मिली है। उन्होंने कहा कि पूर्व की सरकार में युवा नौकरी के लिए परेशान था। गरीबों के लिए अनेकानेक कल्याणकारी योजनाएं चलाई गईं और उनका लाभ भी सबको मिल रहा है। हाईवे, स्वास्थ्य सेवा समेत सभी क्षेत्रों में अभूतपूर्व कार्य हुए हैं। इस दौरान उन्होंने देश की सुरक्षा को लेकर कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने का उल्लेख भी किया। कहा कि जनसंघ के जमाने से 1952 से ही हम यह कहते रहे हैं कि धारा 370 आतंकवाद की जड़ है।

उन्होंने मौजूद लोगों से सवाल करते हुए कहा कि अयोध्या में प्रभु श्री राम का मंदिर बनने से कितने लोगों को खुशी है? उनके इस सवाल पर कार्यक्रम में उमड़े सभी लोगों ने हाथ उठाकर और हां बोलकर अपनी खुशी का इजहार किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले एक ही नारा गूंजता था, रामलला हम आएंगे मंदिर वहीं बनाएंगे। इस पर मीडिया के मित्र हमें चिढ़ाते थे कि तिथि नहीं बताएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने तिथि बताने की जगह सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों श्री राम मंदिर का शिलान्यास कराया और आज भव्य मंदिर के निर्माण का कार्य तेजी से आगे बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री ने लोगों से सवाल किया कि क्या समाजवादी पार्टी, कांग्रेस या बहन जी की बसपा राम मंदिर बनवा पाती। भीड़ से आवाज गूंजी-नहीं। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जो राम भक्तों पर गोली चलाते थे वह कभी भी राम मंदिर का निर्माण नहीं करा सकते थे।

योगी ने कहा कि पिछली सरकारों ने आस्था के साथ खिलवाड़ किया। जन्माष्टमी, विजयदशमी, रामनवमी, दीपावली जैसे पर्व आते ही दंगे शुरू हो जाते थे। आज दंगे पूरी तरह समाप्त हैं, पर्वों पर खुशहाली है। पहले की सरकार कब्रिस्तान की बाउंड्री में पैसा खर्च करती थी, भाजपा की सरकार देवी-देवताओं के स्थानों को सुन्दरीकृत कर आस्था का सम्मान कर रही है। उन्होंने कहा कि माफिया के खिलाफ सरकार का बुलडोजर चलता रहेगा। माफिया के खिलाफ कार्रवाई पर सबसे अधिक पीड़ा सपा, कांग्रेस और बसपा को होती है क्योंकि यही लोग माफिया के सरपरस्त थे। आज इन्हीं पार्टियों में माफिया और अपराधी ठिकाना तलाश रहे हैं।