• संवाददाता

केंद्र सरकार द्वारा पारित होने वाले बजट से व्यापारियों को उम्मीद: राजकुमार


लखनऊ, सोशल टाइम्स। उत्तर प्रदेश सर्वहित व्यापार मंडल के अध्यक्ष राजकुमार यादव ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा पेश किये जाने वाले बजट से हमें काफी उम्मीद है, करोना महामारी के बाद से व्यापारियों को भारी आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है, हमें उम्मीद है कि जीएसटी कर संरचना और इनकम टैक्स को सरल व तर्कसंगत बनाने के साथ ही व्यापारियों के लिए बजट में आर्थिक पॅकेज की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने बताया कि हमारे देश में लगभग 140 करोड़ लोगों में से 3% लोग ही टैक्स देते हैं इसलिए सरकार से मांग है कि टैक्स रेट ना बढ़ाएं बल्कि टैक्स देने वालों की संख्या में इजाफा करने के लिए उपयुक्त कदम उठाएं। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि सरकार पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी में लाने की मांग को पूरा करें। व्यापारियों ई कॉमर्स पॉलिसी लाने की मांग को पूरा करे। हमारे देश में व्यापार पर लगने वाले विभिन्न प्रकार के लगभग 28 तरह के लाइसेंस के स्थान पर आधार की तरह एक लाइसेंस लागू करने की घोषणा हो। मंडी शुल्क वापस लिया जाए। सरकार को 5 करोड़ तक के सालाना कारोबार वाले डीलरों के लिए धारा 64 ए 364 और 1621 से संबंधित प्रावधानों को वापस लेना चाहिए। एमएसएमई में डेली बेसिस पर लगने वाली पेनाल्टी में बंद की जाए। 5,00,000 की आय पर टैक्स नहीं है और 5,00,001 पर 12500 + 4% टैक्स कुछ तार्किक नहीं है इसका निदान होना चाहिए। राजकुमार ने कहा कि जीएसटी - रेवेन्यु बढ़ाने के लिए , व्यापार को आसान बनाने के लिए, इनपुट क्रेडिट को सीमलेस बनाने के लिए लाया गया था लेकिन इसको बना दिया गया है टैक्स चोरी रोकने का कर। एक परसेंट या उससे भी कम संख्या में पाए जाने वाली टैक्स चोर प्रजाति को पकड़ने के लिए सभी करदाताओं को झंझट में डालना व्यवहारिक कदम नहीं है।